एक तिहाई सवालो का भी जवाब नहीं दिया हनीप्रीत ने

0
37

चंडीगढ़=गुरमीत राम रहीम की राजदार हनीप्रीत एक अबूझ पहेली बनती जा रही है। पुलिस के लिए उससे राज उगलवाना टेढ़ी खीर साबित होता जा रहा है। हनीप्रीत की 6 दिन की पुलिस रिमांड सोमवार को पूरी हो गई। अब मंगलवार को उन्हें दोबारा पंचकूला कोर्ट में पेश किया जाएगा और संभावना इस बात की है कि पुलिस हनीप्रीत की रिमांड और बढ़ाने की मांग कर सकती है।
इधर, हनीप्रीत के सामने सवालों की झड़ी लगाने के बाद पुलिस अब दूसरे आरोपियों को उसके सामने बैठाकर पंचकूला दंगों को लेकर कुछ ठोस हासिल करने की लाइन पर काम रही है। इसी कड़ी में पिछले 24 घंटों के दौरान हनीप्रीत के ड्राइवर राकेश को उसके सामने बैठाकर सवाल किए गए। पूछताछ में क्या निकला, इस पर पुलिस चुप्पी साधे हुए है। इसी तरह पुलिस हनीप्रीत के साथ पकड़ी गई सुखदीप कौर से भी पूछताछ कर चुकी है।
देशद्रोह की आरोपी हनीप्रीत को 3 अक्टूबर को जीरकपुर-पटियाला रोड से गिरफ्तार किया गया था। वह 38 दिनों तक फरार रही। पंचकूला कोर्ट ने उसे 4 अक्टूबर को 6 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा था लेकिन जल्द ही पुलिस को आभास हो गया कि हनीप्रीत से आसानी से कुछ भी पता कर पाना आसान नहीं है। इसीलिए पुलिस रिमांड के दो दिनों के भीतर ही पंचकूला पुलिस ने हाथ खड़े कर दिए।
पुलिस कमिश्नर एएस चावला की बेबसी इस बयान से जाहिर हो रही थी कि हनीप्रीत जांच में बिल्कुल भी सहयोग नहीं कर रही है। पुलिस को यह बात हनीप्रीत और सुखदीप कौर को बठिंडा में निशानदेही के लिए ले जाए जाने पर पता चली। हालांकि पुलिस ने साथ ही यह भी दावा किया कि अबतक की जांच में हनीप्रीत के निश्चित तौर पर पंचकूला दंगों में संलिप्त होने की बात सामने आई है।
इसके बाद पुलिस ने अपनी जांच का पैंतरा बदला और हनीप्रीत व सुखदीप कौर से पूछताछ की। सूत्रों के मुताबिक पुलिस जांच में हनीप्रीत तो नहीं टूटी, अलबत्ता सुखदीप कौर ने जरूर कुछ ऐसी जानकारियां दी, जिससे केस को नई दिशा मिली। पुलिस ने सोमवार को भी हनीप्रीत व राकेश अरोड़ा को आमने-सामने बैठाया और सवाल किए। सूत्रों के मुताबिक इस दौरान दोनों से करीब 400 सवाल किए गए और इसमें से हनीप्रीत ने 85 सवालों के ही जवाब दिए। शेष सवालों पर वह या तो चुप्पी साधे रही या फिर बयान बदलते दिखी।