विकास और उसका दोस्त 25 तक न्यायिक हिरासत में

0
53

चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले के आरोपों में फंसे विकास बराला और उसके साथी आशीष को फिलहाल राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही है। दो दिन का पुलिस रिमांड पूरा होने के बाद शनिवार को अदालत ने छेड़छाड़, पीछा करने और अपहरण के प्रयास के दोनों आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। दोनों आरोपियों का पुलिस रिमांड शनिवार को खत्म हो गया था और पुलिस ने दोनों आरोपियों को भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच चंडीगढ़ जिला अदालत में ड्यूटी मजिस्ट्रेट गौरव गुप्ता की अदालत में पेश किया। यहां पुलिस की तरफ से आरोपियों का 14 दिन का ज्यूडिशियल रिमांड मांगा गया, जिसे अदालत ने मंजूर करते हुए दोनों को 25 अगस्त तक के लिए ज्यूडिशियल रिमांड पर भेज दिया।
दूसरी ओर बचाव पक्ष के वकील सूर्यप्रकाश ने बताया कि आरोपियों के परिजनों की तरफ से उनकी बेल की के लिए कोई निर्देश नहीं मिले हैं। परिवार चाहता है कि कानून अपना काम करे। सूर्यप्रकाश की मानें तो पुलिस द्वारा आगे रिमांड न मांगना आरोपियों की बेगुनाही के संकेत हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस ने कोर्ट में आरोपियों का रिमांड नहीं मांगा। इसका मतलब है कि पुलिस को आरोपियों से और पूछताछ नहीं करनी है।इस मामले की गतिविधियों पर गौर करें तो बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला इस विवाद में नहीं फंसना चाहते और इसीलिए उन्होंने अपने बेटे की जमानत की अर्जी भी कोर्ट में नहीं दी। इस बारे में वकील सूर्यप्रकाश ने कहा कि प्रोसेस को होने दो ताकि दोबारा यह बात न उठे कि कार्यवाही पूरी नहीं हुई है या बच्चों ने कोई दोष किया था।
उल्लेखनीय है कि 4 अगस्त की रात को हरियाणा बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष ने राह चलते वर्णिका कुंडू की गाड़ी का पीछा किया था। दोनों आरोपी उसी रात पकड़ लिए गए थे लेकिन उन्हें थाने से ही जमानत भी मिल गई थी। मामले ने तूल पकड़ा तो पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 365 और 511 लगाकर दोबारा गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस पर इस मामले में दबाव होने के चलते केस को कमजोर करने के आरोप आए थे। हालांकि पुलिस ने इससे इनकार किया था। पुलिस ने पुलिस रिमांड के दौरान आरोपियों को लेकर क्राइम सीन को री-कंस्ट्रक्ट किया ताकि नए तथ्य जुटाए जा सकें। सभी की निगाह इस बात पर टिकी थी कि पुलिस कोर्ट में क्या दलील पेश करती है। कोर्ट में सुनवाई हुई और आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।