आखिरकार विकास बराला फिर से गिरफ्तार हुआ अपहरण की कोशिश की धारा भी जोड़ी

0
70

नई दिल्ली =आखिरकार मीडया और विपक्षी पार्टियों के बढ़ाते दबाब के बाद आईएएस अफसर की बेटी वर्णिका कुंडू के साथ छेड़खानी के आरोपी बीजेपी नेता सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष को गिरफ्तार कर लिया गया है। बुधवार को पूछताछ के लिए ये दोनों चंडीगढ़ के 26 सेक्टर थाने पहुंचे थे। विकास बराला के खिलाफ दर्ज मामले में अपहरण की कोशिश की दो गैरजमानती धाराएं भी जोड़ी दी गई हैं, जिसके बाद यह गिरफ्तारी की गई है। दरअसल पुलिस ने इस मामले में घटना वाली रात के सीसीटीवी फुटेज बरामद किए थे, जिसमें विकास बराला वर्णिका का पीछा करते हुए नजर आया था।
इससे पहले विकास के पिता और बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला ने मामले को लेकर पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान सुभाष बराला ने कहा कि उनका बेटा विकास पुलिस को जांच में पूरी तरह सहयोग करेगा और अगर वह जांच के दौरान दोषी भी पाया जाता है तो उस पर कानून कार्रवाई करेगा। हालांकि, प्रेस कॉन्फ्रेंस के बीच में ही सुभाष बराला को उनके बेटे का फोन आया और वह कॉन्फ्रेंस अधूरी छोड़ बीच में ही उठकर चल दिए।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुभाष बराला ने कहा, ‘हमने इस मामले में किसी तरह की राजनीति नहीं की, कोई दबाव नहीं डाला है। जो भी आरोप लगेंगे उसी के हिसाब से कार्रवाई हो। वर्णिका कुंडू मेरी बेटी के समान है, अगर इस केस में मेरे बेटे पर कोई कार्रवाई होती है तो कानून डटकर कार्रवाई करे। पुलिस प्रशासन किसी तरह की लापरवाही नहीं कर रही, पूरी तटस्थता से कार्रवाई हो रही है।’ विकास बराला के पुलिस जांच के लिए मिले नोटिस पर थाने न पहुंचने को लेकर सुभाष ने कहा, ‘कल रात तक नोटिस नहीं मिला था। विकास चंडीगढ़ से बाहर था। मुझे सुबह जैसे ही जानकारी मिली मैंने उसतक मेसेज पहुंचाया कि उसे पुलिस थाने जाना है। अब वह पुलिस के पास पहुंचने वाला है। वह तफ्तीश में पूरी तरह शामिल होगा।’
बराला से पहले हरियाणा बीजेपी के प्रवक्ता जवाहर यादव ने इस मामले में विपक्षी पार्टियों पर राजनीति का आरोप लगाया। यादव ने कहा कि पूरे मामले में पुलिस की अभी तक की कार्रवाई से पीड़ित पक्ष पूरी तरह संतुष्ट है। कहा जा रहा है कि बीजेपी दबाव बना रही है, जबकि पुलिस पर बीजेपी की तरफ से किसी तरह का दबाव नहीं बनाया जा रहा है। जवाहर यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि ओम प्रकाश चौटाला पर आरोप लगाया गया तो क्या वह जेल के अंदर गए थे? कोर्ट के आदेश के बाद ही उनको सजा हुई।