देसी नहीं विदेशी है अपना समोसा,

0
125


दिल्ली – चाय के साथ समोसकी जोड़ी आम बात है शायद ही कोई ऐसा शख्श होगा जिसे समोसा पसंद न हो। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आपका यह पसंदीदा स्नैक समोसा आए कहां से है? कहां से हुई थी समोसे की शुरुआत? ज्यादातर लोग मानते हैं समोसा भारतीय पकवान है। लेकिन हैरानी होगी कि समोसा देसी नहीं बल्कि विदेशी है। जी हां… समोसे मीलों की दूरी तय कर भारत पहुंचा है।
21 अप्रैल 1526 को मुगलों ने भारत में प्रवेश किया और वे अपने साथ लेकर आए खान-पान से संबंधित कई चीजें जिनमें समोसा सबसे मशहूर था। 16वीं शताब्दी के मुगल दस्तावेज आइन-ए-अकबरी में भी समोसे का जिक्र मिलता है।

फारसी भाषा के ‘संबुश्क’ से निकला है और पहली बार इसका ज़िक्र 11वीं सदी में फारसी इतिहासकार अबुल-फज़ल बेहाक़ी की लेखनी में मिलता है। उन्होंने गजनवी साम्राज्य के शाही दरबार में पेश की जाने वाली ‘नमकीन’ चीज़ का ज़िक्र किया है जिसमें कीमा और सूखे मेवे भरे होते थे। मध्य एशिया का यह अल्प आहार देखते ही देखते दक्षिण एशिया के लोगों के दिलों पर राज करने लगा। ‘संबुश्क’ आज पूरे एशिया में अलग-अलग नाम और अवतार में पाया जाता है।

मोरक्को के एक्सप्लोरर इब्न बतूता अफगानिस्तान की ऊंची पहाड़ियों के रास्ते 14वीं शताब्दी में भारत आए थे और मुहम्मद बिन तुगलक के दरबार में उन्होंने जो खाया था उसे काफी पसंद किया था। उस खाने के बारे में बतूता बताते हैं- दिल्ली की सल्तनत के परम पूज्य संबुश्क बहुत तीखे थे। वह छोटी-छोटी कचौड़ियों जैसे थे जिनके अंदर मीट का कीमा, बादाम, पिस्ता और अखरोट भरा हुआ था और इसे पुलाव के तीसरे कोर्स के पहले सर्व किया जाता था।

पहले जहां समोसे में मीट भरा जाता था वहीं, 16वीं सदी में पुर्तगालियों के भारत में बटाटा यानी आलू लाने के बाद समोसे में भी इसका इस्तेमाल शुरू हो गया। अब समोसा पुलाव के साथ खाने वाला मीट से भरा नमकीन नहीं रहा। मॉर्डन समोसे के रूप में हर दिन बदलाव होता जा रहा है। ट्रेडिशनल समोसे में मसला हुआ आलू, हरी मटर, हरी मिर्च और मसाले भरे जाते हैं जिसे चटनी के साथ खाया जाता है।

पूर्वी भारत में समोसे को सिंघाड़ा कहते हैं और इसे बनाने का तरीका थोड़ा अलग है। बंगाल की बात करें तो यहां समोसे के आटे में हिंग मिलाई जाती है और आलू को मैश करने की बजाए छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर समोसे के अंदर भरा जाता है। तो वहीं उत्तर भारत में उबले हुए आलू को मसलकर उसे मसालों के साथ पकाया जाता है उसके बाद उसे समोसे में भरा जाता है। तो वहीं दक्षिण भारत की बात करें तो यहां के समोसे में लोकल मसालों के साथ प्याज, गाजर, पत्ता गोभी और करी पत्ते भी भरे जाते हैं।