अब कंगना पर प्रोजेक्ट हाईजेक करने का आरोप

0
47

मुंबई = ऐसा लगता है कि कंगना रनौत को विवादों में रहने की आदत हो गई है। जब भी ऐसा लगता है कि कंगना से जुड़ा एक विवाद खत्म हो गया तब तक वह किसी दूसरे विवाद में फंसी नजर आती है। हाल में कंगना की आने वाली फिल्म ‘सिमरन’ की स्क्रिप्ट लिखने का क्रेडिट लेने के लिए राइटर अपूर्व असरानी ने उनके ऊपर आरोप लगाए थे। अब वह एक नए विवाद में फंसती नजर आ रही हैं।
मिस्कार्य डॉट कॉम में स्तुति श्रीवास्तव की खबर के मुताबिक मशहूर निर्माता निर्देशक केतन मेहता ने कंगना को लीगल नोटिस भेजा है। उन्होंने कंगना पर आरोप लगाया है कि झांसी की रानी पर आधारित उनके महत्वाकांक्षी प्रॉजेक्ट को कंगना ने हाइजैक कर लिया है। कंगना फिल्म ‘सिमरन’ के बाद ‘मणिकर्णिका- द क्वीन ऑफ झांसी’ नाम की फिल्म में नजर आएंगी। एक मशहूर अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, केतन मेहता ने साल 2015 में झांसी की रानी पर आधारित एक फिल्म की घोषणा की थी। इस फिल्म के लिए कंगना को साइन किया गया था और लगभग डेढ़ा साल तक केतन स्क्रिप्ट के कई ड्राफ्ट कंगना से शेयर किए थे। इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि केतन मेहता को इस फिल्म के लिए एक इंटरनैशनल को-प्रोड्यूसर का साथ भी हासिल हो गया था। हालांकि यह प्रॉजेक्ट शुरू नहीं हो पाया और कंगना और केतन अलग हो गए।
कंगना न केवल इस फिल्म की स्क्रिप्ट लिखने में मदद करना चाहती थीं बल्कि वह केतन के साथ इस फिल्म को को-डायरेक्ट भी करना चाहती थीं। बाद में कंगना ने प्रोड्यूसर कमल जैन, राइटर विजयेंद्र प्रसाद और डायरेक्ट कृष के साथ ‘मणिकर्णिका- द क्वीन ऑफ झांसी’ की घोषणा कर दी। जैसे ही केतन को मीडिया से यह खबर मिली तो उन्होंने तुरंत एक प्रेस रिलीज़ जारी कर कहा, ‘कंगना को स्क्रिप्ट के साथ सारे डॉक्युमेंट और रिसर्च मैटेरियर के बारे में जानकारी थी और जाहिर तौर पर वह जानबूझकर कमल जैन व अन्य के साथ मिलकर इस प्रॉजेक्ट को हाइजैक कर रही हैं।’केतन मेहता के एक नज़दीकी सूत्र के मुताबिक, इस रिलीज़ में कहा गया था कि केतन ने इस प्रॉजेक्ट पर पिछले 10 साल से ज्यादा मेहनत की थी और उनका विश्वास है कि यह एक अच्छा प्रॉजेक्ट साबित होता। उन्होंने इस फिल्म की रिसर्च के लिए काफी मेहनत और दुनियाभर की यात्राएं की थीं। सूत्र ने बताया, ‘मुझे पता है कि केतन ने इस प्रॉजेक्ट पर काफी समय, एनर्जी और पैसा खर्च किया था। कंगना का यह विश्वासघात जैसा है और यह नियमों के खिलाफ है कि किसी के भी डिवेलप किए हुए प्रॉजेक्ट को इस तरह से पूरी तरह चुरा लिया जाए।’