बड़बोले बरकती को टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम पद से हटाया गया

0
74

कोलकाता =कोलकाता के टीपू सुल्तान मस्जिद ने देश के खिलाफ ‘आपत्तिजनक और भड़काऊ’ बयान देने पर शाही इमाम मौलाना नूर-उर रहमान बरकती को बुधवार को पद से हटा दिया। उल्लेखनीय है कि उन्होंने अपने वाहन से लालबत्ती हटाने का विरोध करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर भी वह लालबत्ती नहीं उतारेंगे। हालांकि, एफआईआर दर्ज किए जाने के बाद उन्होंने लालबत्ती हटा ली थी।
उन्होंने लालबत्ती न उतारने को लेकर दलील देते हुए कहा था, ‘मैं एक धार्मिक नेता हूं और कई दशकों से इसका इस्तेमाल कर रहा हूं। मैं केंद्र के आदेश का पालन नहीं करता। मुझे आदेश देने वाले वाले वे होते कौन हैं? बंगाल में सिर्फ राज्य सरकार का आदेश प्रभावी है। मैं लालबत्ती का इस्तेमाल करूंगा। बंगाल में मेरे वाहन से कोई लालबत्ती नहीं उतार सकता।’
इसके अगले ही दिन उन्होंने कहा था कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर भी लालबत्ती नहीं हटाएंगे। उनके इस बयान के बाद राज्य के लाइब्रेरी मिनिस्टर और मौलवी सिद्दिकुल्लाह चौधरी ने बरकती के खिलाफ 13 मई के मस्जिद के बाहर प्रदर्शन किया था। बरकती के खिलाफ बंगाल के अलग-अलग पुलिस थानों में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी। इसके बाद कोलकाता पुलिस बरकती के घर पहुंची थी और उनकी कार से लालबत्ती हटाई गई थी।
लालबत्ती हटाए जाने के बाद बरकती का रुख नरम होता दिखा और उन्होंने कहा कि शाही इमाम होने के नाते वह कानून का पालन करेंगे। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने वीआईपी कल्चर को समाप्त करने के लिए लाल और नीली बत्ती की व्यवस्था खत्म कर दी है। यह व्यवस्था 1 मई से देशभर में प्रभावी हो गई है। इसके तहत प्रधानमंत्री को भी छूट नहीं दी गई है।