आईपीएस अमिताभ ठाकुर फिर विवादों में घिरे

0
126

वाराणसी =समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रमुख मुलायम सिंह यादव पर फोन पर धमकी देने का आरोप लगाने वाले आईपीएस अमिताभ ठाकुर खुद गंभीर आरोपों में घिर गए हैं। ये आरोप पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में तैनात एक महिला अधिकारी ने लगाए हैं। नागरिक सुरक्षा में तैनात इस महिला अधिकारी ने वर्तमान में पुलिस महानिरीक्षक (रूल्स एंड मैनुअल्स) पद पर तैनात अमिताभ ठाकुर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। महिला अधिकारी ने इस मामले में पीएम और सीएम को पत्र लिखकर न्याय की मांग की है।
इस महिला अधिकारी ने आईपीएस अमिताभ से परिवार व जीवन को खतरा बताते हुए मामले की न्यायिक जांच की मांग की है। आरोप लगाने वाली महिला ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह को भी चिट्ठी लिखकर मामले की जांच कराने की मांग की है। वाराणसी में तैनात इस महिला अधिकारी का आरोप है कि कानपुर में नागरिक सुरक्षा विभाग में तैनाती के दौरान संयुक्त निदेशक के पद पर तैनात अमिताभ ठाकुर के इशारे पर उनकी प्रताड़ना की गई। महिला अधिकारी ने आईपीएस पर मानसिक उत्पीड़न करने की बात कहते हुए जानबूझकर उनका तबादला लखनऊ से बाहर करानें का आरोप लगाया।
पीएम व सीएम को भेजे गए खत में महिला अधिकारी ने आईपीएस अमिताभ पर संयुक्त निदेशक नागरिक सुरक्षा के पद पर रहने के दौरान गलत उद्देश्य से पीड़िता को फर्जी जांचों में फंसाने, चेतावनी देने, स्थानांतरण कराने, प्रमोशन रोकने, पीड़िता और उसके पति पर फर्जी मुकदमे दर्ज कराने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं। इस पीड़ित महिला अधिकारी ने महिला आयोग, मानवाधिकार आयोग, अनुसूचित जाति आयोग में भी ठाकुर के खिलाफ शिकायत की थी, लेकिन कार्रवाई नहीं होने पर उसने अब पीएम, सीएम व गृहमंत्री से शिकायत की है। पीड़ित महिला अधिकारी ने अमिताभ पर अपने पद का दुरुपयोग कर अपनी पत्नी डॉ. नूतन ठाकुर के माध्यम से उसपर साइबर क्राइम की झूठी एफआईआर लिखाने का आरोप भी लगाया है। महिला अधिकारी ने इन आरोपों के आधार पर आईजी ठाकुर के खिलाफ न्यायिक जांच कराने की मांग की है।