भारत में चीन बनाएगा सबसेऊंची सरकारी बिल्डिंग

0
2152

सूरत -सूरत में सबसे बड़ी सरकारी इमारत बनने जा रही है। डायमंड सिटी के नाम से मशहूर सूरत में सूरत म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की 61 मंजिल इमारत बनाने की तैयारी है। इस योजना में चीन ने अपनी रुचि दिखाई है।
अगर यह प्रॉजेक्ट सफल होता है तो यह देश की अब तक की सबसे बड़ी सरकारी इमारत होगी। सूरत म्युनिसिपल कॉरपोरेशन फिलहाल 1644 में शाहजहां के शासनकाल में बनी ऐतिहासिक इमारत मुगलसराय में अपना काम कर रहा है।
निर्माण क्षेत्र में सक्रिय चीनी कंपनियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने पिछले साल सूरत का दौरा किया था। उसी समय प्रतिनिधमंडल ने दावा किया था कि वह म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ऑफ सूरत (एसएमसी) के लिए 61 मंजिला इको फ्रेंडली इमारत का निर्माण बहुत ही कम समय में कर सकते हैं। इस इमारत की खासियत यह भी होगी कि इसे प्री फैब्रिकेट तकनीक का इस्तेमाल करते हुए बनाया जाएगा।
अनुज इंफ्रा टेक इंडिया के हेड मनोज गांधी (जोकि चीनी सरकार की सात फर्मों में साझेदार भी हैं) ने बताया, प्रीफैब्रिकेशन कंस्ट्रक्शन तकनीक में फैक्ट्री में पहले इमारत के अलग-अलग ढांचों का निर्माण कर लिया जाता है और बाद में लोकेशन पर लाया जाता है।
एसएमसी के अधिकारियों ने कहा, हम इस प्रॉजेक्ट की संभावना एवं व्यावहारिकता की जांच कर रहे हैं। इसे रिंग रोड की 22,000 वर्गमीटर जमीन पर बनाए जाने का प्रस्ताव है। 13 कंसल्टेंट्स को प्रॉजेक्ट के लिए डिजाइन तैयार करने के लिए कहा गया है। इन सभी डिजाइन पर विचार करने के बाद एक डिजाइन को चुनकर एसएमसी अपनी अनुमति देगी।
म्युनिसिपल कमिश्नर मिलिंद तोरवाड़े ने बताया, हम प्रस्ताव की व्यावहारिकता रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। यह बड़ी योजना सार्वजनिक-निजी साझेदारी (पीपीपी) के तहत पूरी की जाएगी।

स्टैंडिंग कमिटी के चेयरमैन राजेश देसाई ने कहा, हम स्थानीय निकाय के प्रशासनिक कार्यालय को व्यावसायिक बनाने की योजना पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, 61 मंजिला इमारत बनाने के लिए अगर जेल की जमीन पर्याप्त नहीं होगी तो साइट बदली जा सकती है। हम जल्द ही इस पर फैसला लेंगे।
सूत्रों के मुताबिक, सूरत म्युनिसिपल के लिए गगनचुंबी इमारत निर्माण का सुझाव प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने दिया था जिसके बाद चीनी प्रतिनिधिमंडल ने सूरत का दौरा किया था और इस प्रॉजेक्ट में मदद करने की पेशकश की थी।